नगर पालिका चुनाव निर्दलीय बिगाड़ रहे समीकरण।

खरगोन : मनीष मडाहर  नगर पालिका चुनाव अब जोर पकडऩे लगा है। खरगोन नगर पालिका में 33 वार्ड है पूर्व में भाजपा की 20 और कांग्रेस की 13 सीटो पर कब्जा था । इस बार भाजपा में टिकिट वितरण को लेकर रोष है कई भाजपाइयों को टिकिट नही मिलने से उन्होंने निर्दलीय खड़े होकर अपना भाग्य अजमा रहे है । 33 वार्डो में इस बार निर्दलियों के खड़े होने से कई सीटो पर हार जीत का समीकरण बिगड़ सकता है । भाजपा-कांग्रेस के बागी निर्दलीयो ने भी प्रचार-प्रसार तेज कर दिया है। दोनों ही दल के वरिष्ठ नेताओं ने मतदाताओं के घर दस्तक देना प्रारंभ कर दी है। मतदाताओं को लुभाने के लिए सभी प्रत्याशी ऐड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं। जनाधार वाले प्रत्याशियों के साथ भीड़ दिखाई दे रही है। भाजपा भले ही ज्यादातर बागियों को समझाने में सफल हो गई फिर भी भीतरघात का खतरा मंडरा रहा है। कांग्रेस में भी एक गुट-दूसरे गुट पर विजय पाने के लिए प्रयासरत हैं। दोनों में से डैमेज कंट्रोल करने में कौन सफल होगा, यह गर्त में है। नपा चुनाव के मतदान के 8 दिन शेष बचे हैं। भाजपा-कांग्रेस दोनों ही दल मतदाताओं को लुभाने के लिए ऐड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। कुछ वार्डों में निर्दलियों के जोर पकडऩे से दोनों ही दल के समीकरण बिगड़ सकते हैं। भाजपा ने प्रमुख दावेदारों को टिकट नहीं देने से कई बागियों ने नामांकन भर दिया भाजपा ने कुछ नेताओं को मना लिया था। वरिष्ठ नेताओं की समझाइश पर फार्म वापस तो ले लिया, अभी भी कुछ नेता वरिष्ठ नेताओं के इशारे पर पार्टी के प्रत्याशी को निपटाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। जिन वरिष्ठ नेताओं के रिश्तेदार व समर्थकों को टिकट नहीं मिला है, वह भी ऐसे लोगों को संरक्षण दे रहे हैं। कांग्रेस से भी बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों को अन्य गुट पीठ थपथपाकर मैदान में डटे रहने की सलाह दे रहे हैं। इस कारण कांग्रेस प्रत्याशी को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। राजनीतिक दलों के नेताओं का मानना है कि मतदान में 8 दिन शेष हैं। अंतिम तीन दिन में सब ठीक कर लेंगे। चुनाव आयोग ने भले ही मतदाताओं को आर्थिक प्रलोभन, उपहार व शराब वितरण पर रोक लगा रखी है। कई वार्डों में प्रत्याशी इसे दरकिनार कर मतदाताओं को लुभाने के लिए खुलकर खर्च कर रहे हैं। कुछ वार्डों में तो प्रत्याशियों के साथ बड़ी संख्या में भीड़ होने से उनके हौंसले बुलंद हो गए हैं।

*चुनावी घोषणा पत्र भी चर्चा का विषय*

वार्ड 5 से काग्रेस की उम्मीदार श्रीमती दुर्गा अभय पंवार का चुनावी घोषणा पत्र लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है। कई लोग सत्तारूढ़ पार्टी के घोषणा पत्र को मजबूत बताकर अपना पक्ष रख रहे हैं तो कई लोग विपक्ष की पार्टी के घोषणा पत्र व चुनावी प्रचार को अच्छा बता रहे हैं। वार्ड 5 की काग्रेस की प्रत्याशी दुर्गा स्व अभय पंवार ने अपने 8 बिन्दुओं के संकल्प में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के द्वारा लागु स्वच्छता अभियान के अंतर्गत सपूर्ण वार्ड को कचरा मुक्त बनाने को प्राथमिकता से लिया है जो नगर में चर्चा का विषय बना हुआ है। क्योकि श्रीमती दुर्गा पंवार स्ंवय मोदीजी की तरह चाय बेचने का ही व्यवसाय करती है। वेसे इस वार्ड में उनका मुकाबला भाजपा खरगोन के पुर्व विधायक बाबूलाल महाजन की बहु श्वेता कपिल महाजन से है जिसका वार्ड के साथ ही पार्टी में भी बहुत विरोध है । श्वेता चुनाव जीतती है तो वह अध्यक्ष पद की प्रबल दावेदार है । इस वार्ड में त्रिकोणीय मुकाबला है भाजपा काग्रेस के अलावा एक अन्य महिला ज्योतिबाला महाजन भी है जो कि भाजपा से टिकिट नही मिलने के कारण निदर्र्लीय चुनाव लड़ रही है । जिसको क्षेत्र में अपार जनसमर्थन मिल रहा है। निर्दलीय और भाजपा में वोटो के बटवारे को लेकर कांग्रेस की ओर से कयास लगाए जा रहे है की हमारी जीत सुनिश्चित है। हम वार्ड की जनता की उम्मीदों पर खरा उतरेंगे।तीनो ही उम्मीदवारों का वार्ड के विकास पर जोर है। वार्ड की समस्या और विकास को लेकर वार्ड के लोगो का कहना है की कोई भी चुनाव जीते इस बार वार्ड का विकास जरूर होगा। वार्डवासियों की जितने वाले उम्मीदवार से उम्मीद है की वार्ड की सड़को के हालात बदतर है चुनाव बाद वार्ड की सड़को की हालत में सुधार होगा ।

*विकास पर फोकस*

नगर के सभी वार्डो के मतदाता इस बार चुनाव को लेकर बहुत उत्सुक है । नगर पालिका परिषद का कार्यकाल खत्म होने के बाद कई दिनों से नगर पालिका में कलेक्टर प्रशासक कामकाज देख रहे थे । इस बार सभी पार्टी के उम्मीदवारों का चुनाव में वार्ड के विकास पर फोकस है । बरहाल नगर के सभी 33 वार्ड में किसी भी पार्टी का कोई भी प्रत्याशी चुनाव जीते वार्ड का विकास तो जरूर होगा।वार्ड के विकास के साथ खरगोन का विकास होगा।