कोरोना19 का प्रिकॉशन डोज अब 6 महीने बाद बाद भी ले सकते हैं : केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने राज्यों को दिए निर्देश

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने कोरोना की प्रिकॉशन डोज के गैप को (18 साल और उससे ऊपर के लोगों के लिए) कम करने का फैसला लिया है. अब दूसरे डोज के बाद की प्रिकॉशन डोज आप 9 महीने की बजाए 6 महीने बाद ही ले सकते हैं. ये फैसला नेशनल टेक्निकल एडवाइजर ग्रुप ऑन इम्यूनाइजेशन के साइंटिफिक एविडेंस और ग्लोबल प्रैक्टिस स्टडी के आधार पर लिया गया है.

बता दे की कोरोना का खतरा अब भी बना हुआ है. देश के कुछ राज्यों में कोरोना के मामले अब भी चिंता का कारण बने हुए हैं. वहीं कई दूसरे देशों में भी एक बार फिर कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं.
कोरोना के नए वेरिएंट पर वैक्सीन कितनी असरदार है ? साथ ही वैक्सीन से एंटीबॉडी कब तक मौजूद रहेगी इसको लेकर समय-समय पर सवाल खड़े होते रहे हैं. ऐसे में देश में इस बारे में गंभीरता से विचार चल रहा था कि बूस्टर डोज की मंजूरी दी जाए तो कब तक. वहीं कुछ देशों में बूस्टर डोज लगने भी शुरू हो गए हैं.

विदित हो कि अब तक 18 साल से 59 की उम्र तक के लोगों के लिए कोरोना की वैक्सीन के दो डोज पूरे होने के 9 महीने या 39 हफ्तों के बाद ही कोई भी प्रिकॉशन डोज ले सकता था. लेकिन अब इसे देश में भी 9 महीने से घटा कर 6 महीने करने का फैसला लिया गया है.

इस बारे में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने राज्यों के मुख्य सचिव, स्वास्थ्य सचिवों को चिट्ठी लिखी है. वहीं इसको लेकर कोविन प्लेटफार्म में बदलाव भी किए गए हैं.

केंद्र सरकार ने कहा है कि इस अनुशंसा के बाद अब 18 से 59 साल के सभी लोग जिनको कोरोना का दूसरा डोज लगे 6 महीने या 26 सप्ताह पूरा हो गया है, वो कोविड-19 का बूस्टर डोज ले सकते हैं.

देश में ओमीक्रोन का सब वेरिएंट दे रहा हैं टेंशन

गौरतलब है कि कोरोना के ओमीक्रोन वेरिएंट के सब वेरिएंट BA.2.75 के फैलने के बाद देश में कोरोना के मरीजों की संख्या में लगातार तेजी देखी जा रही है. ऐसे में केंद्र सरकार ने बिना देरी किए बूस्टर डोज की मियाद को घटाने का फैसला किया है.

ज्ञात हो कि ओमीक्रोन के इस सब-वेरिएंट के चलते देश में पिछले हफ्ते के भीतर एक लाख से ज्‍यादा नए मामले सामने आए हैं. 7 दिनों का यह आंकड़ा पिछले चार महीनों में सबसे अध‍िक है. 27 जून से 3 जुलाई के बीच कोविड के 1.11 लाख से ज्‍यादा नए मामले साामने आए हैं. इस दौरान कम से कम 192 मौतें दर्ज हुईं. इनमें से 44 फीसदी मौतें केरल में हुईं.

उल्लेखनिय हैं कि देश में अब तक कुल 1,98,31,81,839 वैक्सीन डोज दी जा चुकी है. जिसमे से 4,79,73,759 लोगों को प्रिकॉशन डोज दी गई है. इसमें 57,93,380 हेल्थ केयर वर्कर, 1,06,30,456 फ्रंटलाइन वर्कर है. वहीं 18 से 44 साल के आयु वर्ग में 34,54,432 लोगो को, 45 से 59 साल आयु वर्ग में 28,03,798 लोगों को और 60 साल से ज्यादा आयु वर्ग में 2,52,91,693 लोगों प्रिकॉशन डोज लग चुकी है.